Tuesday, July 22, 2008

प्रभावित करना और होना





flower trans 
प्रभावित होना और प्रभावित करना जीवंतता का लक्षण है।
कुछ लोग हैं, जो प्रभावित होने को दुर्बलता मानते हैं। मैं ऐसा नहीं मानता।
जो महत् से, साधारण में छिपे असाधारण से प्रभावित नहीं होते,
मैं उन्हें जड़ मानता हूँ।
--- मसि कागद में श्री चंद्र प्रकाश की पोस्ट में आचार्य विष्णुकान्त शास्त्री।

ज्ञानदत्त पाण्डेय

2 comments:

''ANYONAASTI '' said...

जब दो वस्तुयें एक दूसरे के निकट आती हैं तो जिस वस्तु के पीछे प्रकाश की अधिकता होगी ,उसकी छाया दूसरी वस्तु पर अवश्य पडेगी ही । इसी प्रकार जब दो व्यक्तित्व सम्पर्क में आते हैं ,एक दूसरे के आत्मा के प्रकाश से प्रभावित अवश्य होंगे ही । जिस की ज्ञान औरा अधिक होगी ,उससे दूसरा प्रभावित होगा । यह एक प्रक्रितिक प्रक्रिया है ।

Mrs. Asha Joglekar said...

Bhai wah bada achcha sankalan hai.