Wednesday, July 23, 2008

आत्मविजय




flower trans
हम पर्वतों को विजित नहीं करते, हम अपने आप को जीतते हैं।
--- सर एडमण्ड हिलेरी। 

ज्ञानदत्त पाण्डेय

1 comments:

महेंद्र मिश्रा said...

sundar vichaar, dhanyawad.