Tuesday, August 26, 2008

सफल व्यक्ति






flower trans
मैं अत्यन्त सफल व्यक्तियों का प्रशंसक हूं। पर यदि वह सफलता बहुत निर्दयता/निर्ममता से हासिल की गयी है तो मैं उस व्यक्ति की प्रशंसा भले ही करूं, उसकी इज्जत नहीं कर सकता।
--- रतन टाटा
ज्ञानदत्त पाण्डेय

5 comments:

संगीता पुरी said...

लेकिन आज तो हर सफलता निर्दयता से ही हासिल की जाती है...... आप क्या करेंगे ?

राज भाटिय़ा said...

रतन टाटा जी से कोई पुछे जो जमीन उन्होने नेनो कार के लिये ली हे, क्या लोगो की खुशी ओर सहमती से ली हे? जो लोग वहा मरे हे क्या वह रतन टाटा खी सफ़लता से जल कर खुद मरे हे????

Dr. harsh vardhan sharma said...

Sir, I am really thankful of these net services, by which I am able to get the sangati(attachment ) of valuable such honourable personalities. thanks, please be continued, thanks,

Dr. harsh vardhan sharma said...

Sir, I am really thankful of these net services, by which I am able to get the sangati(attachment ) of valuable such honourable personalities. thanks, please be continued, thanks,

amit said...

एक बात यह भी पता कीजिए राज भाटिया जी कि जो ज़मीन उन्होंने ली तो क्या वह स्वयं गुंडागर्दी करके ली या बंगाल सरकार ने तश्तरी में रख के पेश की? यदि गुंडागर्दी से ली होती तो वह उस ज़मीन को कभी नहीं छोड़ते। इसी से अनुमान लगाइये बंदे की नीयत का कि उसने कह दिया कि अपने एक भी मुलाज़िम को कोई चोट लगवाने से बेहतर होगा कि वह पूरी फैक्टरी ही वहाँ से हटा लें और अगले ने हटा भी ली!! कोई और कंपनी का मालिक कह और कर सकता है क्या ऐसा?